Saturday, October 24, 2009

हिंदी कविता का एक दिग्भ्रमित सितारा - 'हितैषी'

     हिंदी में एक विलक्षण प्रतिभा के कवि थे जगदम्बा प्रसाद मिश्र 'हितैषी' (1896-1956)। वे कानपुर के 'सुकवि मंडल' की त्रयी के सबसे जाज्वल्यमान नक्षत्र थे। ब्रजभाषा और नागर हिंदी के साथ-साथ उर्दू और फारसी में उनकी अच्छी गति थी। खड़ी बोली में सवैया छंद के वे श्रेष्ठ कवि थे। निराला जी प्रायः उनका स्मरण 'सवैया का बादशाह' के रूप में किया करते थे। डॉ. नामवर सिंह ने भी अपने प्रारंभिक कवि-काल में उन्हीं से प्रेरित होकर सवैया छंद में अभ्यास किया था। 1936 के आसपास 'कल्लोलिनी' नाम से उनका सवैया संग्रह भी प्रकाशित हुआ था। कई अन्य काव्यकृतियां भी उनकी प्रकाशित हुईं किंतु अब वे प्राप्य नहीं हैं। देशभक्तिपूर्ण मशहूर गजल 'शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले/ वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा' उन्हीं की रचना है। स्वयं 'हितैषी' भी, खुदीराम बोस वाले दौर में बंगाल में भूमिगत क्रांतिकारी आंदोलन में शिरकत कर चुके थे। बाद में विचारधारात्मक मतभेद के कारण वे वहां से चले आए। फिर भी देशभक्त क्रांतिकारियों की उपेक्षा वे कभी बर्दाश्त नहीं कर पाते थे। एक बार वृंदावन में एक साहित्योत्सव हुआ था, जिसमें हितैषी भी आमंत्रित थे। वहां उन्होंने देखा कि राजनेताओं की तो अभ्यर्थना हो रही है, गुणगान हो रहा है, किंतु उसी नगर से संबंधित भारत के प्रथम निर्वासित राष्ट्रपति महेन्द्र प्रताप का नामोल्लेख तक नहीं! इस उपेक्षा से आहत होकर उन्होंने तत्काल एक सवैया रच कर वहां पढ़ा, जिसे सुन कर उपस्थित जन-समुदाय में अदभुत भावोद्रेक हुआ और आयोजकों के चेहरे धुआं-धुआं हो गए। उसी समारोह में आयोजित कवि सम्मेलन के लिए एक 'समस्या' (तरह) रखी गई थी- 'वृंदावन की'। अपेक्षा यह थी कि सभी कवि वृंदावन का गौरवगान करेंगे। वहां आमंत्रित अतिथियों को जो रात्रि आवास दिया गया था वहां बिल्लियों की बहुतायत थी। उनकी धमाचौकड़ी में रात भर कोई सो नहीं पाए। हितैषी ने इसी उपालम्भ से कवि सम्मेलन में अवधी में एक कवित्त पढ़ा, जिसका अंतिम चरण था- 'गोकुल की गैयां जहां होइहैं तहां होइहैं/ हियां स्वानन न देती हैं बिलैयां वृंदावन की।'
     हिंदी में उमर खैयाम की रुबाइयों के काव्यानुवाद की अच्छी-खासी परंपरा है। मैथिलीशरण गुप्त से लेकर बच्चन, डॉ. रामविलास शर्मा तक सभी ने इस क्षेत्र में प्रयास किए हैं, लेकिन इन सभी ने मूल आधार अंग्रेजी कवि फिट्जगेराल्ड के विवादास्पद अंग्रेजी अनुवाद को बनाया। किंतु हितैषी उन विरल हिंदी कवियों में हैं जिन्होंने सीधे फारसी से खड़ी बोली सवैया छंद में खैयाम की रुबाइयों के अनुवाद किए। दुर्भाग्यवश उन अनुवादों का प्रकाशन नहीं हो पाया और वे तितर-बितर भी हो गए। बड़े अध्यवसाय से, कई शहरों की भागदौड़ करके यह पंक्तिकार उनमें से 22 सवैयों को गुमनामी में जाने और नष्ट होने से बचा पाया, जिनका प्रकाशन एक विस्तृत टिप्पणी के साथ कुछ वर्ष पूर्व अशोक वाजपेयी द्वारा संपादित महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय की पत्रिका 'बहुवचन' में हुआ। रुबाई और सवैया की छंद-परंपरा भिन्न है, काव्य-प्रवाह में भी खासा अंतर है। इस दृष्टि से हितैषी के अनुवादों की प्रभावान्विति खैयाम की मूल रुबाइयों से घट कर मानी जा सकती है, बल्कि है; किंतु हिंदी में काव्यानुवाद का यह विरल उदाहरण तो है ही। 
     इस उद्भट काव्य-प्रतिभा के बावजूद हितैषी के व्यक्तित्व में खासी प्रगल्भता भी थी, जो उनकी वैचारिक सीमाओं के चलते अपने कटु आलोचक भी बनाती थी। 1924 में यू.पी. कौंसिल के चुनावों में कांग्रेस ने गणेशशंकर विद्यार्थी की अनिच्छा के बावजूद उन्हें चुनाव लड़ने का आदेश दिया। उनके विरुद्ध मदनमोहन मालवीय ने हिंदू महासभायी चुन्नीलाल गर्ग नाम के एक मारवाड़ी धनकुबेर को अपना उम्मीदवार बनाया, जो पानी की तरह पैसा बहाने के बावजूद अंततः पराजित हो गए। यह इतर प्रसंग है। यहां हितैषी का संदर्भ यह है कि वे भी मूलतः हिंदू महासभायी थे। उन्होंने चुन्नीलाल गर्ग के समर्थन में, विद्यार्थी जी के विरुद्ध एक कुत्सित कविता लिखी, जिसकी एक पंक्ति थी- 'तुम कौंसिल जाय कै का करिहौ, अखबार मां बारु उखाड़ा करौ'। उनकी यह पंक्ति मालवीय जी को भी अखरी थी, और वे उससे आहत हुए थे, क्योंकि राजनीतिक मतभेद के बावजूद वे गणेशशंकर विद्यार्थी को पुत्रवत स्नेह करते थे। निराला की 'खजोहरा' शीर्षक विवादास्पद कविता जब हिंदी में छपी, तो कई पुराणपंथियों को उससे धक्का लगा। उनमें एक हितैषी भी थे। उन्होंने प्रतिक्रिया में एक कविता लिखी और इलाहाबाद के 'देशबंधु' पत्र में बिना कविनाम के प्रकाशित कराई। उसकी पहली दो पंक्तियां थीं- 'निराला की थीं इक निराली बुआ/ न जिनसे बचा एक भी मर्दुआ।' निराला पढ़ कर बहुत उद्वेलित हुए। कवि की असली पहचान के लिए कई दिन तक परेशान रहे। अंततः जब उन्हें असलियत का पता चला, तो उनका क्रोध शांत हो गया। हितैषी के खुड़पेंची स्वभाव से वे भलीभांति परिचित थे और पंजा लड़ाई में बराबर का दंगली मानते थे।
     हितैषी का जिक्र करते हुए उर्दू के महाकवि सौदा की याद आती है, उनके कसीदों और गजलों के साथ उनकी हजो (निंदात्मक कविताएं) की भी। हितैषी अगर श्रीनारायण चतुर्वेदी, भगवतीचरण वर्मा, अमृतलाल नागर की पीढ़ी में टकसाली सवैयों के लिए याद किए जाते थे, तो उर्दू के हजो की तर्ज पर अपने भड़ौओं के लिए भी। हिंदी में भड़ौआ लिखने वाले वे अकेले कवि थे और तुल जाते थे, तो किसी को बख्शते न थे। 1925 की कानपुर कांग्रेस के दौरान नव-निर्वाचित कांग्रेस अध्यक्ष सरोजिनी नायडू पर भी उन्होंने एक भड़ौआ लिखा था, जो महात्मा गांधी तक को खटका था। और तो और, अपने सगे ताऊ पर भी उन्होंने एक ऐसा भड़ौआ लिखा, जो सार्वजनिक रूप से पढ़ा जाने काबिल नहीं था।
     शायद इसी को कहते हैं चंद्रमा में दाग।

1 comment:

  1. लेख पढ़ कर आनंद मिला ...

    ReplyDelete